businessInvestmentnews

Manappuram Finance के शेयर में किया है निवेश? ED के छापे पर कंपनी के MD ने दिया बड़ा बयान

वित्तीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने हाल ही में मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड की 143 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त की थीं.

केरल की नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनी मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड (Manappuram Finance Ltd) ने दावा किया है कि वित्तीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय (ED) का छापा अब बंद हो चुकी मणप्पुरम एग्रो फार्म्स (Manappuram Agro Farms) को लेकर दुर्भावनापूर्ण तरीके से दर्ज कराए गए मुकदमे पर आधारित थी. ईडी ने हाल ही में मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड की 143 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त की थीं.

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने 4 मई को कहा था कि उसने णनी लॉन्ड्रिंग के मामले की जांच के दौरान छापेमारी करने के बाद मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी वी पी नंदकुमार की 143 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त की हैं.

ED छापे का मणप्पुरम फाइनेंस से कोई लेना-देना नहीं

नंदकुमार ने मीडिया के लिए जारी एक बयान में दावा किया कि कंपनी के परिसरों में ईडी के दौरे का मणप्पुरम फाइनेंस के व्यापारिक मामलों से कोई लेना-देना नहीं था. बयान के अनुसार, ED का दौरा एक व्यक्ति की ओर से दुर्भावनापूर्ण तरीके से दायर मुकदमे पर आधारित था, जो उनके व उनके परिवार से व्यक्तिगत द्वेष मानता है. यह मामला अब बंद हो चुकी मणप्पुरम एग्रो फार्म्स (मैग्रो) को लेकर है, जो 10 वर्ष पुराना मामला है.

संस्था ने दावा किया कि ईडी ने 140 करोड़ रुपये नहीं बल्कि कुल लगभग 2,000 करोड़ रुपये के शेयर जब्त किए हैं. ईडी ने 140 करोड़ रुपये की संपत्तियों को जब्त करने की बात कही थी. एजेंसी ने कहा था कि जब्त की गई संपत्तियों में 8 बैंक खातों में जमा राशि, लिस्टेड शेयरों में निवेश और मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड के शेयर शामिल हैं.

कंपनी का बिजनेस

मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड ऑनलाइन गोल्ड लोन (Gold Loan), माइक्रो-होम फाइनेंस, फॉरेक्स और मनी ट्रांसफर, बिजनेस लोन, सिक्योर्ड पर्सनल लोन जैसे उत्पादों की एक सीसीज प्रदान करता है.

 

Related Articles

Back to top button